आचार्य चाणक्‍य कहते हैं कि जीवनसाथी चुनते समय अगर व्‍यक्ति ये चार गुण वाली लड़की ढूंढ लेता है,तो शादी के बाद उनकी जिंदगी स्वर्ग बन जाता है..    

संस्कारी और शिक्षित महिलाएं चाणक्य की नीति के अनुशार अगर कोई शिक्षित, गुणवान और संस्कारी महिला किसी भी व्यक्ति के जीवन में पत्नी बनकर आए तो...

हर परिस्थिति में पति के साथ-साथ पूरे परिवार के लिए न सिर्फ मददगार साबित होती हैं बल्कि।।।

पूरे परिवार के लिए स्तंभ बन जाती हैं. ऐसी महिलाएं न केवल आत्मविश्वास से भरी होती हैं बल्कि बड़े फैसले भी बड़े ही शांत और सौम्य तरीके से लेती है. 

मीठी वाणी से बोलने वाली महिलाएं     चाणक्य कहते है के प्रेम भाव से बोलने वाली महिला अपने व्यवहार और वाणी से पति के साथ-साथ पूरे परिवार को खुशहाल बना देती हैं..  

ऐसी महिलाएं खुद तो समाज में सम्मान पाने के साथ साथ पाने पति को भी खूब इज्जत सम्मान दिलाती है...

शांत स्वभाव की महिलाएं चाणक्य निति के अनुसार  शांत स्वाभाव की महिलाएं लक्ष्मी का रूप मानी जाती हैं. ऐसे में अगर आप किसी ऐसी महिलाएं को अपना पत्नी बनाकर घर लाते है तो... 

वह न केवल पति के जीवन को संवार देती हैं बल्कि पूरे परिवार को खुसी के धागो में बांध कर चलती है....

सुंदरता की जगह गुणवान इस दौर में अधिकांश लोग सुंदरता देखकर शादी कर रहे है, लेकिन चाणक्य के अनुसार व्‍यक्ति को सिर्फ सुंदरता देखकर शादी नहीं करनी चाहिए जो भी...

व्‍यक्ति केवल चेहरे की खूबसूरती देखकर जीवनसाथी का चुनाव करता है, उसका जीवन आगे चलकर नर्क बन सकता है।

 महिला व पुरुष को शादी का फैसला जीवनसाथी के गुण, संस्कार और शिक्षा को देखकर करना चाहिए।अगर आप इन तीनो।।।

 बातो को धयान में रखते हुए अपने जीवनसाथी का चुनाव करते है तो जरूर आपका आने वाला कल बेहतर बन जाता