4 C
New York
Wednesday, February 8, 2023

दिवाली पर निबंध,इतिहास।Diwali Essay in hindi

 

diwali, history, status,essay in hindi

दिवाली पर निबंध।Diwali Essay in hindi 

भारत दुनिया का दूसरा सबसे अधिक आबादी वाला देश है जहां सबसे ज्यादा त्योहार मनाए जाते हैं। उन्हीं त्योहारों में से एक है दिवाली का त्योहार। जिसे हम सब 5 दिनों तक अपने परिवार के साथ सेलिब्रेट करते हैं। हिंदुओं के अलावा, सिख और जैन धर्म के लोग भी पूरे धार्मिक नियमों के अनुसार पांच दिनों तक अपने परिवार के साथ इस त्योहार को मनाते हैं। रोशनी के इस त्योहार को परिवार, दोस्तों और पड़ोसियों के साथ बहुत खुशी और धूमधाम से मनाये जाते हैं।

इस त्योहार से कई संस्कार, परंपराएं और संस्कृति मान्यताएं जुड़ी हुई हैं और कई पौराणिक कहानियां भी शामिल हैं। इस त्योहार के दौरान लोग अपने घर, दुकान, कार्यालय आदि को साफ और रंग देते हैं। इस त्योहार के संबंध में लोगों का मानना ​​है कि हर जगह रोशनी और खुले दरवाजे, खिड़कियां रखने से देवी लक्ष्मी हमारे परिवार के लिए आशीर्वाद, धन और ढेर सारी खुशियां लाती हैं।  इसलिए लोग दिवाली के दिन अपने घर को तरह-तरह के दीयों, मोमबत्तियों आदि से सजाते हैं और रंग-बिरंगी रंगोली भी बनाते हैं।

इसके अलावा जो चीज इस त्योहार को और भी खास बनाती है, वह है विभिन्न प्रकार की सुगंधित स्वादिष्ट मिठाइया, स्वादिष्ट व्यंजनों और नए कपड़ों का समावेश। दीपावली की मुख्य रात में बच्चों और बड़ों ने भी अपने पूरे परिवार के साथ खुशी-खुशी पटाखे जलाते है। दिवाली की रात को लोग परिवार, दोस्तों के साथ ताश और कई अन्य इनडोर गेम खेलने की प्रथा का पालन करते हैं।  दिवाली के इस त्यौहार में लोग शुभकामना के रूप में परिवार और दोस्तों को मिठाई, मेवा आदि देते हैं। यही वजह है कि बच्चे इस त्योहार का बेसब्री से इंतजार करते हैं और बच्चे भी विभिन्न गतिविधियों के साथ इस त्योहार का आनंद लेते हैं।

Also read:- इस दिवाली आपके लिए लेकर आये हैं पांच सबसे ज्यादा मुनाफे वाला बिजनेस जानने के लिए क्लिक करें 

इन्हें भी पढ़ें:- ये चीजें भारत को दुनिया से बेहतर बनाती हैं।

दिवाली के साथ मनाए जाने वाले त्यौहार

दीपावली को 5 दिनों तक मनाया जाने वाला सबसे लंबा त्योहार माना जाता है। दीपावली का त्योहार के पहले दिन धनतेरस के रूप में मनाया जाता है। जिस दिन मां लक्ष्मी की पूजा की जाती है।  लोग देवी लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए भक्ति गीत भी गाते हैं।  इस दौरान लोग अपने परिवार और पड़ोसियों के साथ आरती और मंत्र का जाप भी करते हैं। धनतेरस के इस शुभ दिन पर लोग सोना, चांदी के आभूषण और घरेलू सामान जैसे बर्तन, इलेक्ट्रॉनिक सामान, वाहन आदि खरीदते हैं। सदियों से लोग इस प्रथा का पालन कर रहे हैं।

दूसरे दिन:- को नारक चतुर्दशी या छोटी दीपावली भी कहा जाता है। जिस दिन भगवान कृष्ण की पूजा की जाती है क्योंकि उस दिन श्री कृष्ण ने नरकासुर का वध किया था। इस दिन लोग सुबह जल्दी उठकर तेल से स्नान कर मां काली की पूजा करते हैं। वे कुमकुम लगाने की धार्मिक प्रथा का भी पालन करते हैं

तीसरा दिन:- है मुख्य दीपावली जिस दिन घरों में मां लक्ष्मी की पूजा की जाती है। इस दिन लोग अपने परिवार के सदस्यों और दोस्तों को उपहार के रूप में मिठाई, केक आदि बांटते हैं, साथ ही रंगोली और पटाखे की आतिशबाजी भी करते हैं

चौथे दिन:- लोग इस दिन गोवर्धन पूजा करते हैं, इस दिन लोग भगवान श्री कृष्ण की पूजा श्रद्धा से करते हैं। इस दिन लोग अपने घरों (दहलीज) के सामने गाय के गोबर से गोवर्धन बनाकर पूजा करते हैं। धार्मिक मान्यता के अनुसार भगवान कृष्ण ने गोवर्धन पर्वत को अपनी कनिष्ठा अंगुली पर उठा लिया और गोकुल में रहने वाले लोगों को अचानक हुई बारिश से बचाया था।

पांचवा दिन:- रोशनी के इस पर्व का पांचवां दिन भाई दूज के नाम से जाना जाता है। इस दिन को भाई-बहन का पावन पर्व माना जाता है। इस दिन बहन पूजा, व्रत और कथा कर अपने भाई की लंबी उम्र के लिए भगवान से प्रार्थना करती है।

Also read:- कंप्यूटर और टी.वी. प्रभाव पर निबंध।और जाने टीवीऔर कंप्यूटर की वजह से किस प्रकार हमारा समाज खतरे में है।

दीपावली क्यों मनाया जाता है। दीपावली का इतिहास

भारत में हर साल अक्टूबर या नवंबर में, रोशनी का यह त्योहार हिंदू, सिख, ईसाई और जैन धर्म के सभी लोगों द्वारा अपने परिवार के साथ 5 दिनों तक बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है। दिवाली मनाने के पीछे कई अलग-अलग पौराणिक कहानियां बताई जाती हैं, जिनमें से कई मुख्य रूप से लोगों को प्रभावित करती हैं। जैसे  मे राक्षस राजा रावण को मार कर विजय हो कर जब भगवान राम, माता सीता और भगवान लक्ष्मण 14 साल के वनवास के बाद अयोध्या लौटे थे तो अयोध्या के लोगों ने भगवान राम के स्वागत के लिए पूरी अयोध्या को रोशनी से जगमगा दिया था लोगों ने अपने घरों में स्वादिष्ट व्यंजन, मिठाइयां भी बनाईं और एक दूसरे को बधाई दी थी।

दूसरी बड़ी धार्मिक मान्यता यह है कि यमराज से नचिकेता के जन्म और मृत्यु को जानने के बाद, हम लोगों से वापस मृत्यु की दुनिया में लौट आए। एक मान्यता के अनुसार पहली बार लोगों ने नचिकेता की मृत्यु पर अमरता की जीत का ज्ञान लेकर लौटने की खुशी में दीप जलाए थे, तब यह भारत की पहली दीपावली मानी जाती है।

दीपावली से जुड़ी तीसरी बड़ी मान्यता यह भी है कि भगवान श्रीकृष्ण ने नरकासुर नाम के एक नीच राक्षस का वध कर अपने द्वारा रचित मानव और गंधर्व की सोलह हजार कन्याओं को मुक्त कराया था। इस दिन लोगों ने खुशी-खुशी दीप जलाए।

इन्हें भी पढ़ें:- दुर्गा पूजा का इतिहास,महत्व,स्टेटस,कहानी निबंध जानने केेेे लिए क्लिक करें

दिवाली पर निबंध हिंदी में 10 लाइन

  • दीपावली का त्योहार पूरे 5 दिनों तक मनाया जाता है।

  • दिवाली के दिन माता लक्ष्मी और भगवान गणेश जी की पूजा की जाती है।

  • इस दिन घरों में लाइट,दीप और पटाखे जलाने का रिवाज है

  • दिवाली का त्यौहार भगवान राम 14 साल के वनवास काटकर अपने राज्य में लौटने की खुशी में मनाया जाता है।

  • दीपावली 5 दिनों का त्यौहार है। पहला दिन धनतेरस के रुप मे मनाते हैं, दूसरा दिन छोटी दीपावली, तीसरे दिन मुख्य दीपावली (जिससे लक्ष्मी पूजा भी कहते हैं),चौथे दिन गोवर्धन पूजा तथा पांचवें दिन भैया दूज के रूप में मनाया जाता है।

  • इस दिन लोग नए कपड़े, स्वादिष्ट पकवान ,मिठाईयां और पटाखे के साथ धूमधाम के साथ मनाते हैं।

  • दिवाली के चौथे दिन लोग गांव के गोबर से अपनी दहलीज पर गोवर्धन बनाकर पूजा करते हैं ।

  • दिवाली के दिन लोग पासा,कार्ड जैसे कई प्रकार का खेल भी खेलते हैं।

  • दीपावली असल में दो शब्दों से मिलकर बना है दीप +वाली  वास्तविक अर्थ है दीपों का पंक्ति।

इन्हें भी पढ़ें:- Memes बना कर कैसे लोग लाखो मे कमाई कर रहे 

      



okkdheeraj
okkdheerajhttp://gyangoal.in
Blogger managing 3 websites, SEO professional, content writer , digital marketing enthusiast and also a frontend designer. Always ready to showcase and enhance my knowledge .

Latest Articles